प्रभात सरसिज का दो नया काव्य-संकलन प्रकाशित : “मुल्क में है आपाधापी” एवं “आवारा घोड़े”

0
396

पटना (14 जुलाई 2020) : हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध कवि प्रभात सरसिज का दो नया काव्य-संकलन प्रकाशित हुआ है. “मुल्क में है आपाधापी” एवं “आवारा घोड़े” नाम के दोनों नये काव्य-संकलनों का प्रकाशन अमेजन के माध्यम से किया गया है. पूर्व में भी उनके “लोकराग” एवं “गजव्याघ्र” नाम के दो काव्य-संकलन प्रकाशित हो चुके हैं.

प्रभात सरसिज भारतीय हिंदी कविता के उन कवियों में हैं, जिनकी कविताएँ मनुष्य-जीवन के संत्रास को एकदम अलहदा तरीक़े से उद्घाटित करती हैं। इन कविताओं को गुने-बुने-रचे जाते वक़्त कवि के भीतर-बाहर किसी तरह का असमंजस नहीं रहता, ना किसी तरह की झिझक रहती है कि ये कविताएँ कौन-सा पाठक, कौन-सा श्रोता या कौन-सा आलोचक पसंद करेगा। एक पाठक, एक श्रोता, एक आलोचक के भीतर-भीतर यह असमंजस चलता रहता है कि अब प्रतिरोध के कवि धीरे-धीरे ख़त्म होने को हैं, तो प्रभात सरसिज जैसे कवि प्रतिरोध को अपना आभूषण बनाए भारतीय हिंदी कविता में बिंदास बुल-टहल-घूम रहे हैं.

मुक्तिबोध परम्परा के कवि प्रभात सरसिज ने 500 से भी ज्यादा कविताओं की रचना की है. बिहार के गिद्धौर गाँव में जन्मे एवं पले-बढ़े प्रभात सरसिज वर्तमान समय में पटना में रह रहे हैं. उन्होंने जीवन के कुछ वर्ष कविगुरू रवीन्द्रनाथ टैगोर की कर्मभूमि शांतिनिकेतन में भी गुजारे हैं.

(कवि प्रभात सरसिज का सम्पर्क सूत्र : 8709296755)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here